भारत की जन जातियाँ - ..ٌ::ٌ:: النسابون العرب ::ٌ::ٌ..
..ٌ::ٌ:: النسابون العرب ::ٌ::ٌ..

التميز خلال 24 ساعة
العضو المميز الموضوع المميز المشرف المميز
أصل عائلة البساطي
بقلم : محمد أحمد البساطي
قريبا
« آخـــر الـــمــواضيـع »
         :: عائلة الجمل المغازية باويش الحجر ،المنصورة ،الدقهلية،بمصر (آخر رد :عبدالرحمن الجمل)       :: وكيل سيلتال البحيرة 01225025360 | بلاغات سيلتال حوش عيسي 01127571696 (آخر رد :بيايبيلب)       :: الخط الساخن لصيانه مجفف نورج 01225025360 | وكيل صيانه نورج المنصورة 01127571696 (آخر رد :بيايبيلب)       :: وكيل باساب الدقهلية 01225025360 | بلاغات باساب نبروه 01127571696 (آخر رد :بيايبيلب)       :: الخط الساخن لصيانه غساله اطباق اريستون 01225025360 | وكيل صيانه اريستون العوايد 01127571696 (آخر رد :بيايبيلب)       :: وكيل يونيون اير المنصورة 01225025360 | بلاغات يونيون اير شربين 01127571696 (آخر رد :بيايبيلب)       :: الخط الساخن لصيانه دراير ايبرنا 01225025360 | وكيل صيانه ايبرنا سبورتنج 01127571696 (آخر رد :بيايبيلب)       :: وكيل توشيبا الاسكندرية 01225025360 | بلاغات توشيبا زيزينيا 01127571696 (آخر رد :بيايبيلب)       :: الخط الساخن لصيانه ثلاجه كريازي 01225025360 | وكيل صيانه كريازي المعتمدية01127571696 (آخر رد :بيايبيلب)       :: وكيل ايديال الدقهلية 01225025360 | بلاغات ايديال منية النصر 01127571696 (آخر رد :بيايبيلب)      




إضافة رد
قديم 03-09-2017, 01:35 PM   رقم المشاركة :[1]
معلومات العضو
منتقي المقالات
 
أحصائيات العضو

علم الدولة : علم الدولة arab league

افتراضي भारत की जन जातियाँ

भारत की जन जातियाँ






भारत की जनजातियाँ ही यहाँ की आदिवासी तथा मूलतः निवास करने वाली जनसंख्या का प्रतिनिधित्व करती हैं। इनके जीवन-यापन का ढंग वर्तमान में भी प्राचीन पद्धतियों से ही संचालित होता आ रहा है। अब भले ही कुछ जनतियों ने स्थायी ढंग से कृषि, पशुपालन आदि कार्यों में रुचि लेना प्रारम्भ कर दिया है किन्तु इनकी अधिकांश जनसंख्या शिकार करने, मछली पकड़ने, लकड़ी काटने आदि कार्यों द्वारा ही जीवन-निर्वाह करती है। भारत में जनजातीय समुदाय के लोगों की काफ़ी बड़ी संख्या है और देश में 50 से भी अधिक प्रमुख जनजातीय समुदाय है। 'सरलतम रूप में जनजाति ऐसी टोलियों का एक समूह है, जिसका एक सान्निध्य वाले भूखण्ड अथवा भूखण्डों पर अधिकार हो और जिनमें एकता की भावना, संस्कृति में गहन समानता, निरन्तर सम्पर्क तथा कतिपय सामुदायिकता हितों में समानता से उत्पन्न हुई हो।' [1] एक जनजाति समान संस्कृति वाली जनसंख्या का स्वतन्त्र राजनीतिक विभाजन है।' [2]
विभिन्न नामों से सम्बोधित




भारतीय जनजातियों को विद्वानों द्वारा अलग-अलग नामों से सम्बोधित किया गया है, जैसे आदिवासी, पहाड़ी जनजातियाँ, जंगली आदिवासी, प्राचीन जनजाति, जंगल निवासी, पिछड़ा हिन्दू, विलीन मानवता आदि। भारतीय संविधान में इन्हे 'अनुसूचित जनजाति' कहा गया है जबकि वर्तमान में इनको आदिवासी, वन्यजाति, अरण्यवासी, गिरिजन आदि अनेक नामों से जाना जाता है। भारतीय जनजातियों का मूल स्रोत कभी देश के सम्पूर्ण भू-भाग पर फैली प्रोटो आस्ट्रेलियाड तथा मंगोल जैसी प्रजातियों को माना जाता है। इनका एक अन्य स्रोत नीग्रिटों प्रजाति भी है जिसके निवासी अण्डमान निकोबार द्वीप समूह में अभी भी विद्यमान हैं। देश की जनजातीय जनसंख्या के वितरण पर यदि ध्यान दिया जाय तो तीन मुख्य क्षेत्र स्पष्ट होते हैं, जो निम्नलिखित हैं।
  • उत्तरी एवं उत्तरी-पूर्वी प्रदेश - इसमें हिमालय के तराई क्षेत्र, उत्तरी-पूर्वी क्षेत्र सम्मिलित किये जाते हैं। देश की लगभग 80 प्रतिशत जनजातीय जनसंख्या इसी क्षेत्र में निवास करती है। मध्य प्रदेश, दक्षिण राजस्थान, आन्ध्र प्रदेश, दक्षिणी उत्तर प्रदेश, गुजरात, बिहार, उड़ीसा आदि राज्य इसी क्षेत्र में आते हैं।
  • मध्यवर्ती क्षेत्र - इसके अन्तर्गत प्रायद्वीपीय भारत के पठारी तथा पहाड़ी क्षेत्र सम्मिलित किये जाते है। देश की लगभग 80 प्रतिशत जनजातीय जनसंख्या इसी क्षेत्र में निवास करती है। मध्य प्रदेश, दक्षिण राजस्थान, आन्ध्र प्रदेश, दक्षिणी उत्तर प्रदेश, गुजरात, बिहार, उड़ीसा आदि राज्य इसी क्षेत्र में आते हैं।
  • दक्षिणी क्षेत्र - इसके अन्तर्गत आन्ध्र प्रदेश, कर्नाटक, केरल तथा तमिलनाडु का जनजातीय क्षेत्र शामिल हैं। यह भारतीय जनजातियों के सबसे प्राचीन स्वरूप का प्रतिनिधित्व करता है।
इन तीन प्रमुख क्षेत्रों के अतिरिक्त अण्डमान निकोबार द्वीप समूह में भी एकांकी रूप से कुछ विशिष्ट जनजातियाँ जैसे ओंग, ओंग, जारबा, उत्तर सेण्टिनली, अण्डमानी, निकोबारी आदि भी पायी जाती है।
देश में रहने वाले जनजातीय समुदाय के लोग नीग्रिटो, ऑस्ट्रेलॉयड और मंगोलॉयड प्रजातियों से सम्बद्ध है। देश की प्रमुख जनजातियां निम्नलिखित हैं-


التعديل الأخير تم بواسطة د ايمن زغروت ; 06-09-2017 الساعة 11:47 PM
توقيع : الارشيف
الارشيف غير متواجد حالياً   رد مع اقتباس
إضافة رد

مواقع النشر (المفضلة)


الذين يشاهدون محتوى الموضوع الآن : 1 ( الأعضاء 0 والزوار 1)
 
أدوات الموضوع
انواع عرض الموضوع

تعليمات المشاركة
لا تستطيع إضافة مواضيع جديدة
لا تستطيع الرد على المواضيع
لا تستطيع إرفاق ملفات
لا تستطيع تعديل مشاركاتك

BB code is متاحة
كود [IMG] متاحة
كود HTML معطلة
Trackbacks are متاحة
Pingbacks are متاحة
Refbacks are متاحة


المواضيع المتشابهه
الموضوع كاتب الموضوع المنتدى مشاركات آخر مشاركة
ब्रिटिश सरदार का इतिहास د ايمن زغروت दक्षिण एशिया मंच 0 16-12-2017 12:31 AM
गोंड (जनजाति) الارشيف दक्षिण एशिया मंच 0 03-09-2017 12:48 PM
कोंकणी लोग الارشيف दक्षिण एशिया मंच 0 03-09-2017 12:16 PM
आदिवासी (भारतीय) الارشيف दक्षिण एशिया मंच 0 03-09-2017 11:25 AM
जनजाति الارشيف दक्षिण एशिया मंच 0 03-09-2017 11:22 AM

  :: مواقع صديقة ::

:: :: :: :: ::

:: :: :: :: ::


الساعة الآن 06:26 PM


Powered by vBulletin® Copyright ©2000 - 2019, Jelsoft Enterprises Ltd.
SEO by vBSEO TranZ By Almuhajir
..ٌ:: جميع الحقوق محفوظة لموقع "النسابون العرب" كعلامة تجارية لمالكه المهندس أيمن زغروت الحسيني ::ٌ..
منتج الاعلانات العشوائي بدعم من الحياه الزوجيه