तमिल जैन - ..ٌ::ٌ:: النسابون العرب ::ٌ::ٌ..
..ٌ::ٌ:: النسابون العرب ::ٌ::ٌ..

التميز خلال 24 ساعة
العضو المميز الموضوع المميز المشرف المميز
سؤال واستفسار يهمني جدا جدا
بقلم : أبحث كثيرا
« آخـــر الـــمــواضيـع »
         :: لم ازل في الحب يا أملي (آخر رد :بن سيحان العجرمي الرشيدي)       :: ألأم على حبي وكأنى سننته (آخر رد :بن سيحان العجرمي الرشيدي)       :: ياناس اريد اعرف نسب ال سلول هل هم يهود الاصل او انهم عبيد . لان اصلهم غير قابت لدى الانساب (آخر رد :رجل منصف)       :: نسب الحوثي ؟؟؟؟؟؟؟ للحاذقين في الانساب (آخر رد :رجل منصف)       :: السمحان (آخر رد :سمير سمحان)       :: نسب ال سمحان في راس كركر (آخر رد :سمير سمحان)       :: تاريخ وروايات الاجداد (آخر رد :سمير سمحان)       :: التعريف بأعمام المصطفي والنبي المجتبي (آخر رد :الشريف عبد العزيز القاضى)       :: ربايع شمال افريقيا (آخر رد :محجوب الربعي الجزائري)       :: شركه اللمسه الاول لخدمات التنظيف (آخر رد :ياسميناا)      




إضافة رد
قديم 05-09-2017, 01:26 AM   رقم المشاركة :[1]
معلومات العضو
منتقي المقالات
 
أحصائيات العضو

علم الدولة : علم الدولة arab league

افتراضي तमिल जैन

तमिल जैन

तमिल जैन भारत में जैन धर्म के दिगंबर संप्रदाय का हिस्सा है। वे ज्यादातर पहली शताब्दी ई.पू. के बाद से तमिलनाडु राज्य में रहते हैं। इन तमिल जैनियों ने तमिल साहित्य और संस्कृति के लिए बहुत योगदान दिया है। वे मातृभाषा के रूप में तमिल बोलते हैं। उत्तर भारत के जैनियों के विपरीत, वे अपनी सीमा शुल्क और परंपराओं में भिन्न होते हैं। वे अधिक उत्तरी तमिलनाडु के जिलों में रह रहे हैं। जैसे चेन्नई, विल्लुपुरम, कांचीपुरम और तिरुवन्नामलई जिलों में. तमिलनाडु में उनकी जनसंख्या 85000 के आसपास है।
तमिलनाडु में जैन धर्म की उत्पत्ति

कुछ विद्वानों के अनुसार जैन दर्शन 6 वीं शताब्दी ईसा पूर्व में दक्षिण भारत में आया होगा | साहित्यिक स्रोतों और श्रवणबेलगोला से प्राप्त शिलालेख के अनुसार उत्तरी भारत में चंद्रगुप्त मौर्य के शासनकाल में 12 साल के लंबे अकाल आने के कारण, अपनी चर्या का निर्वाह करने हेतु आचार्य भद्रबाहु का संघ जिसमे 12,000 जैन संत थे दक्षिण भारत की ओर आया था, राजा चन्द्रगुप्त भी मुनि दीक्षा लेकर उनके साथ आये थे| श्रवणबेलगोला पहुंचने पर आचार्य भद्रबाहु ने अपना अंत समय जान कर मुनि चंद्रगुप्त के साथ चंदागिरी पहाड़ी पर ही रहने का फैसला किया और अपने १२,००० शिष्यों को निर्देश दिया की वह चोल और पांडिया के राज्यों में चले जाए |
अन्य विद्वानों के अनुसार, भद्रबाहु और चंद्रगुप्त की यात्रा से पहले भी जैन धर्म को अच्छी तरह से दक्षिण भारत में ही अस्तित्व में होना चाहिए। मदुरै, त्रिची, कन्याकुमारी, तंजौर के आसपास गुफाओं में जैन शिलालेख और जैन देवताओं के बहुत सारे प्रमाण पाए जाते हैं जो 4 शताब्दी से भी पुराने हैं।
तमिल ब्राह्मी शिलालेख की एक संख्या दूसरी शताब्दी ईसा पूर्व की तारीख की है कि तमिलनाडु में पाए गए हैं। वे जैन भिक्षुओं के साथ जुड़ा हुआ है और भक्तों रखना जा करने के लिए माना जाता है
जैन धर्म जैन प्रतीक चिन्ह
प्रार्थना[दिखाएँ]
दर्शन[दिखाएँ]
भगवान[दिखाएँ]
मुख्य व्यक्तित्व[दिखाएँ]
मत[दिखाएँ]
ग्रन्थ[दिखाएँ]
त्यौहार[दिखाएँ]
अन्य[दिखाएँ]
जैन धर्म प्रवेशद्वार
  • दे
  • वा
  • सं

जैन मंदिर


Thirupanamur Digambar जैन मंदिर


Mannargudi Mallinatha Swamy जैन मंदिर


अरहंतगिरी जैन मठ


Karandai दिगंबर जैन मंदिर


पोंनुर हिल्स


मेल सिथामुर जैन मठ

इन्हें भी देखें

  • जैन मूर्तियाँ
  • तीर्थंकर

तमिल जैन प्रवेशद्वार
अर्थव्यवस्था • इतिहास • भूगोल • राजनीति • लोग • संस्कृति • स्थापत्य • साहित्य

धर्म: एड्वेन्टिज़्म • एंग्लीकनिज़्म • एथेइज़्म • अय्य्वाझी • बहा'ई मत • बाइबल • मोर्मोन पुस्तक • बौद्ध • कैल्वेनिज़्म • कैथोलोचिज़्म • Christadelphians • इसाईयत •चीन में ईसाइयत • भारत में ईसाइयत • कन्फ़्यूशियनिज़्म • क्रियेशनिज़्म • पूर्वी ईसाइयत • Heathenism • हिन्दू धर्म • हिन्दू धर्म • इस्लाम • जैन • यहूदी • कब्बालाह •Latter‑day Saints • महायन बौद्ध • मिथक विद्या • नवीन युग • अधार्मिकता • Occult • पूर्वीय अर्थोडक्सी • संत • विज्ञानवादी धर्म • शिंतो • सिख • अध्यात्मिकता •सूफ़ी • ताओ • तिब्बती बौद्ध • बज्रयान बौद्ध • विक्का • पारसी

बदलें जैन धर्म प्रवेशद्वार


आचार्य अमितगति ने कहा है:
सत्वेषु मैत्रिं गुणिषु प्रमोदं, क्लिष्टेषु जीवेषु कृपापरत्वम्।
माध्यस्थ्यभावं विपरीतवृतौ, सदा ममात्मा विदधातु देवः॥

हे जिनेन्द्र! सब जीवों से हों मैत्री भाव हमारे,
गुणधारी सत्पुरुषन पर हों हर्षित मन अधिकारे।
दुःख दर्द पीडित प्राणिन पर करुँ दया हर बारे,
नहीं प्रेम नहिं द्वेष वहाँ विपरीत भाव जो धारे॥



जैन धर्म भारत की श्रमण परम्परा से निकला धर्म और दर्शन है ।
जैन किसे कहते हैं?

'जैन' कहते हैं उन्हें, जो 'जिन' के अनुयायी हों। 'जिन' शब्द बना है 'जि' धातु से। 'जि' माने-जीतना। 'जिन' माने जीतने वाला। जिन्होंने अपने मन को जीत लिया, अपनी वाणी को जीत लिया और अपनी काया को जीत लिया, वे हैं 'जिन'। जैन धर्म अर्थात 'जिन' भगवान्‌ का धर्म।
जैन धर्म का परम पवित्र और अनादि मूलमंत्र 'णमोकार मंत्र' है-

णमो अरिहंताणं णमो सिद्धाणं णमो आइरियाणं णमो उवज्झायाणं णमो लोए सव्वसाहूणं॥
ऐसो पञ्च णमोकारो, सव्वपावप्पणासणो॥ मंगलाणं च सव्वेसिं, पढमं होई मंगलम ॥

अर्थात अरिहंतो को नमस्कार, सिद्धों को नमस्कार, आचार्यों को नमस्कार, उपाध्यायों को नमस्कार, सर्व साधुओं को नमस्कार। इन्हें पाँच परमेष्ठी (जो परम पद में स्थित हैं ) कहा जाता है.
यह पञ्च नमस्कार मन्त्र सभी पापों का नाश करता है और सभी मंगलों में पहला मंगल है। णमोकार मंत्र जैन धर्म के दिगंबर एवं श्वेताम्बर दोनों संप्रदायों में सामान रूप से मान्य है.
यह मंत्र 'प्राकृत भाषा' में है और जैनागम के अधिकतर मूल ग्रन्थ प्राकृत में ही लिखे गए हैं। जैनागम के अनुसार 'णमोकार मंत्र' अनादिनिधन है अर्थात यह मन्त्र हमेशा से है और हमेशा रहेगा। परन्तु इस युग में सबसे पहले इस मंत्र का सर्वप्रथम प्रयोग 'षट्खंडागम' नामक ग्रन्थ में 'मंगलाचरण' के रूप में हुआ है । इस ग्रन्थ के रचनाकार दो बहुप्रतिभाशाली जैनाचार्य थे : आचार्य पुष्पदंत और आचार्य भूतबलि।


तीर्थंकर

जो धर्मतीर्थ का प्रवर्तन करते हैं और जिनके पाँच कल्याणक (गर्भ कल्याणक, जन्म कल्याणक, दीक्षा कल्याणक, ज्ञान कल्याणक और मोक्ष कल्याणक) मनाये जाते हैं उन्हें तीर्थंकर कहा जाता है। जैन धर्म के अनुसार श्री ऋषभदेव से लेकर श्री महावीर पर्यंत 24 तीर्थंकर हुए हैं जिन्होंने समय-समय पर धर्म की पुनर्स्थापना की है। वर्तमान में २४ वें तीर्थंकर वर्द्धमान महावीर का शासनकाल चल रहा है.

जैन धर्म के बारे में अधिक जानें...




बदलें चयनित लेख



वर्ष १९७५ में १००८ भगवान महावीर स्वामी जी के २५००वें निर्वाण वर्ष अवसर पर समस्त जैन समुदायों ने जैन धर्म के प्रतीक चिह्न का एक स्वरूप बनाकर उस पर सहमति प्रकट की थी। आजकल लगभग सभी जैन पत्र-पत्रिकाओं, वैवाहिक कार्ड, क्षमावाणी कार्ड, भगवान महावीर स्वामी का निर्वाण दिवस, दीपावली आमंत्रण-पत्र एवं अन्य कार्यक्रमों की पत्रिकाओं में इस प्रतीक चिह्न का प्रयोग किया जाता है। यह प्रतीक चिह्न हमारी अपनी परम्परा में श्रद्धा एवं विश्वास का द्योतक है। जैन प्रतीक चिह्न किसी भी विचारधारा, दर्शन या दल के ध्वज के समान है, जिसको देखने मात्र से पता लग जाता है कि यह किससे संबंधित है, परंतु इसके लिए किसी भी प्रतीक चिह्न का विशिष्ट (यूनीक) होना एवं सभी स्थानों पर समानुपाती होना बहुत ही आवश्यक है। यह भी आवश्यक है कि प्रतीक ध्वज का प्रारूप बनाते समय जो मूल भावनाएँ इसमें समाहित की गई थीं, उन सभी मूल भावनाओं को यह चिह्न अच्छी तरह से प्रकट करता है।

अधिक पढ़ें...





बदलें चयनित ग्रंथ


  • तत्त्वार्थ सूत्र



बदलें क्या आप जानते हैं??


  • ...कि जैन दर्शन के अनुसार सात तत्त्व होते हैं
  • ... कि जैन धर्म में भगवान, अरिहन्त और सिद्ध हैं
  • ... कि जैन मतानुसार भी अक्ष माला में 108 दाने रखने का विधान है, और यह विधान गुणों पर आधारित है?
  • ... कि प्रथम तीर्थंकर आदिनाथ के पिता नाभिराज थे
  • ... कि कर्म बन्ध रोकने को संवर कहते हैं
  • ... कि तत्त्वार्थसूत्र संस्कृत में लिखा गया प्रथम जैन ग्रन्थ हैं
  • ... कि जैन मुनि २८ मूल गुणों का पालन करते हैं



बदलें विकिपरियोजनाएं


  • विकिपीडिया:विकिपरियोजना धर्म
  • विकिपीडिया:विकिपरियोजना जैन धर्म




बदलें चयनित चित्र



पद्मसान मुद्रा में प्रथम तीर्थंकर ऋषभदेव की यह प्राचीन प्रतिमा कुण्डलपुर, मध्य प्रदेश में विराजमान हैं

अन्य चयनित चित्र...



बदलें श्रेणियाँ




मुख्य श्रेणी:

  • जैन धर्म
जैन धर्म पर ब्यौरेवार श्रेणियाँ निम्न हैं:-
  • जैन ग्रन्थ
  • जैन दर्शन
  • तीर्थंकर
  • जैन आचार्य
  • जैन मंदिर‎
  • जैन त्यौहार‎
  • जैन विद्वान‎



बदलें चयनित धार्मिक व्यक्ति


  • कुन्दकुन्द स्वामी
अधिक पढ़ें...




बदलें जैन धर्म


जैन धर्म जैन प्रतीक चिन्ह

प्रार्थना[दिखाएँ]
दर्शन[दिखाएँ]
भगवान[दिखाएँ]
मुख्य व्यक्तित्व[दिखाएँ]
मत[दिखाएँ]
ग्रन्थ[दिखाएँ]
त्यौहार[दिखाएँ]
अन्य[दिखाएँ]
जैन धर्म प्रवेशद्वार
  • दे
  • वा
  • सं




बदलें संबंधित प्रवेशद्वार


अय्यवझी बौद्ध धर्म हिन्दू धर्म सिख धर्म धर्म भारत एशिया



التعديل الأخير تم بواسطة د ايمن زغروت ; 06-09-2017 الساعة 11:34 PM
توقيع : الارشيف
الارشيف غير متواجد حالياً   رد مع اقتباس
إضافة رد

مواقع النشر (المفضلة)


الذين يشاهدون محتوى الموضوع الآن : 1 ( الأعضاء 0 والزوار 1)
 
أدوات الموضوع
انواع عرض الموضوع

تعليمات المشاركة
لا تستطيع إضافة مواضيع جديدة
لا تستطيع الرد على المواضيع
لا تستطيع إرفاق ملفات
لا تستطيع تعديل مشاركاتك

BB code is متاحة
كود [IMG] متاحة
كود HTML معطلة
Trackbacks are متاحة
Pingbacks are متاحة
Refbacks are متاحة


المواضيع المتشابهه
الموضوع كاتب الموضوع المنتدى مشاركات آخر مشاركة
अण्डमानी लोग الارشيف दक्षिण एशिया मंच 0 05-09-2017 02:09 AM
तमिल الارشيف दक्षिण एशिया मंच 0 03-09-2017 11:07 AM

  :: مواقع صديقة ::

:: :: :: :: ::

:: :: :: :: ::


الساعة الآن 05:44 AM


Powered by vBulletin® Copyright ©2000 - 2019, Jelsoft Enterprises Ltd.
SEO by vBSEO TranZ By Almuhajir
..ٌ:: جميع الحقوق محفوظة لموقع "النسابون العرب" كعلامة تجارية لمالكه المهندس أيمن زغروت الحسيني ::ٌ..
منتج الاعلانات العشوائي بدعم من الحياه الزوجيه